Yugan Yugan Yogi (Hindi eBook)

अस्तित्व की गुत्थियों को सुलझाने और सत्य की झलक पाने की कोशिश में मनुष्य हमेशा से यात्राएं करता रहा है। उसकी यात्रा की कहानियाँ युगों पुरानी हैं । कई बार ये यात्राएं कुछ सालों में पूरी हो जाती हैं, तो कई बार कोई यात्रा कई जन्मों तक चलती है।

पढ़िए एक ऐसी ही अनोखी यात्रा की कहानी, एक ऐसे असाधारण मनुष्य की कहानी, जिसने सत्य की खोज में अपना सर्वस्व अर्पित कर दिया।

एक विद्रोही, जिसे समाज के नियमों का उल्लंघन करने के लिए मौत की सजा मिली। राह में आई चुनौतियां उसे डिगा नहीं सकीं। उसका संकल्प नहीं घुटा, उसके अरमान नहीं टूटे, उसकी दीवानगी नहीं उतरी। और तीन सौ साल बाद उसी इंसान ने एक ऐसी आध्याटत्मिक क्रांति पैदा की, जिसने विश्वौ को हिला दिया। इस इंसान को आज हम सद्गुरु के नाम से जानते हैं।

सद्गुरु एक आत्म ज्ञानी, युगद्रष्टाा और योगी हैं, जिनकी सत्य की ख़ोज उन्हें जीवन और मृत्यु के पार ले गयी। पढ़िए सदगुरु के कई जन्मों की कहानी इस पुस्तोक में।