सृष्टि से सृष्टा तक [Srushti Se Srushta Tak] (Hindi eBook)

पुस्तक के प्रथम खंड में सृष्टि के द्वैत की चर्चा की गई है, जिसकी जटिलताओं और विविधताओं में उलझा हुआ मनुष्य बुरी तरह से घायल हो चुका है। द्वैत ही उसके जीवन में रंग भरता है, जीवन के समस्त खेल, सौन्दर्य और खुशी का कारण द्वैत ही है। लेकिन इसके लिए उसे एक बहुत भारी कीमत चुकानी पडी है, द्वैत के कारण ही वह सभी तरह के दुःख, कष्ट और मुश्किलों में फँसा हुआ है। सद्गुरु इससे निकलने की उक्ति बताते हैंः ”अगर तुम उस आयाम में स्थापित हो जो सृष्टि का उद्गम है; अगर तुम्हारा एक हिस्सा सृष्टा और दूसरा हिस्सा सृष्टि है, फिर तुम सृष्टि के साथ जैसे चाहो वैसे खेल सकते हो, लेकिन यह तुम्हारे ऊपर कोई भी निशान नहीं छोडेगी।”

दूसरे खंड में सद्गुरु महत्वपूर्ण चेतावनी भी देते हैं: जब इंसान एक खास स्तर की सिद्धि प्राप्त कर लेता है, तो उसके अंदर करुणामय होने की प्रबल इच्छा जागती है। वह इस पृथ्वी के हर जरूरतमंद की आवश्यकताओं को पूरा करना चाहता है। यह किसी प्रकार की समझदारी, बुद्धिमानी, या जागरूकता से उत्पन्न नहीं होती। यह सर्वश्रेष्ठ बनने की चाहत से पैदा होती है। भवसागर की रोमांचकारी यात्रा पर निकले यात्रियों के लिए यह पुस्तक चैतन्य को उपलब्ध एक अनुभवी नाविक की प्रज्ञा से जुडने का एक दुर्लभ अवसर प्रदान करती है।