आत्मज्ञान: आखिर है क्या [Atmagyan Akhir hai Kya] (Hindi eBook)

‘अगर आप इसके बारे में जागरूक नहीं हैं, तो मैं यह बताना चाहूँगा कि 90 प्रतिशत लोगों के लिए उनके आत्मज्ञान प्राप्त करने का वक्त और उनके शरीर छोडने का वक्त एक ही होता है। केवल वही लोग जो शरीर के दाँव-पेंच जानते हैं, जो इस शरीर रूपी यंत्र के विज्ञान को जानते हैं, जो शरीर के कल-पुर्जे की समझ रखते हैं, वही अपने शरीर में बने रहने में सक्षम होते हैं।

अपने शरीर में बने रहने में जो लोग सक्षम होते हैं, उनमें से ज्यादातर लोग अपना बाकी जीवन मौन में ही बिताते हैं। केवल कुछ ही इतने मूर्ख होते हैं जो अपने इर्द-गिर्द के लोगों के साथ कुछ करना चाहते है, क्योंकि उस आयाम के बारे में बात करना जो लोगों के अनुभव में नहीं है, यह बहुत निराशाजनक है। लोग तर्क के आधार पर इसे स्पष्ट करने की कोशिश करते हैं, पर यह बेहद निराशाजनक चीज है…’

-सद्गुरु

सद्गुरु उन दुर्लभ लोगों में से एक हैं, जो न केवल उस अनुभव के बाद जीवित रहे और उसका स्पष्ट बयान किया, बल्कि उन्होंने मानवता को एक शाही मार्ग प्रदान किया और उस दिशा में एक मौन क्रांति की शुरुआत की। इस पुस्तक में संकलित सत्संग एक ऐसे विषय के गूढ पहलू को उजागर करते है, जो लोगों की कल्पना को पहले से कहीं अधिक मुग्ध करने लगा है। एक रहस्यदर्शी, युगद्रष्टा, मानवतावादी, सद्गुरु एक अलग किस्म के आध्यात्मिक गुरु हैं।